Wednesday, May 28, 2008

धुआँ

मंटो की ये कहानी कई स्तरों पर मन की टटोल और कशमकश की कहानी है. आवाज़ मुनीश की है. कहानी कोई बीस मिनट लंबी है. सुनिये धुआँ.

7 comments:

छत्तीसगढिया .. Sanjeeva Tiwari said...

वाह भाई, मुनीश भाई के स्वर में मंटों जी का धुआं सुनना बहुत अच्छा लगा । धुंआ की यादें ताजा हो गई , मंटों जी के बाल मनोविज्ञान पर लिखी यह कहानी लाजवाब है ।

munish said...

shukriya saheb! aya kijiye.

DR.ANURAG ARYA said...

shukriya...ek baar fir dhunya ko alag andaj me ...jaana.

Anonymous said...

:)

munish said...

Thanx. doctor and Miss/Mrs. Anonymous!

सतीश said...

Shows human mind in eternal and complex way, nice story n nice reading.

Anonymous said...

bhai aapka blog sunoon kaise? kahan click karoon? kya download karoon? Manto ka afsana boo sun ne ka bhagirathee prayaas ab tak koi rang na la saka hai.

allahabadwala@yahoo.com