Friday, August 8, 2008

सुनिये अमृता प्रीतम की किताब रसीदी टिकट के एक हिस्से का बचा हुआ हिस्सा



शायदा ने एक नया ब्लॉग शुरू किया है और इस ब्लॉग पर पहली पोस्ट इमरोज़ से मुलाक़ात के बारे में लिखी है. हमने अमृता प्रीतम की किताब रसीदी टिकट का जो हिस्सा यहाँ पेश किया था उसका बचा हुआ हिस्सा पेश करने का यह माक़ूल वक़्त है. सुनिये

5 comments:

उन्मुक्त said...

सुन के अच्छा लगा। आप संगीत और पॉडकास्ट को कैसे मिक्स करते हैं?

Parul said...

kabhii kabhii na jaaney kyu bahut padhey hue shabd bhi samjh nahi aatey...sirf avaaz guunjti hai-asar karti hai..

शायदा said...

बहुत ख़ूब। इससे अच्‍छा और क्‍या हो सकता था। अच्‍छा लगा सुनना।

मुनीश ( munish ) said...

bhai apki female following badhti dekh rashq hota hai vah!

Babli said...

बहुत बढिया!! इसी तरह से लिखते रहिए !