Saturday, March 3, 2012

सोचो तो

गोरख पांडेय की कविता इरफ़ान की आवाज़ में.


जन संस्कृति मंच द्वारा जारी ऑडियो बुक 'आएंगे अच्छे दिन' से

1 comment:

रहस्य क्या है..? said...

बहुत अच्छा अंदाज है !